Wednesday, 5 May 2021

बहरे शाह वज़ीर

 


हवा विषैली हर तरफ़, मचा रही उत्पात।
क्रूर काल पहुँचा रहा, अंतस् को आघात।।
 
महामारी विकट हुई, बनी गले की फाँस।
हाँफ रही है ज़िंदगी, उखड़ रही है सांस।।

चूक आकलन में हुई, मचा हुआ कुहराम।
हाल बुरा है देखिए, सिस्टम है नाकाम।।
 
सत्ता पाने के लिए, नेता हुए अधीर।
कोरोना का भय नहीं, घूम रहे हैं वीर।।
 
बस चुनाव की फ़िक्र में, शासक हैं मशगूल।
हर दिन ही वो तोड़ते, अपने नियम उसूल।।
 
मतलब अपना साध कर, बैठे आँखें फेर।
कैसे बचे यकीन अब, चारों ओर अँधेर।।

त्राहि-त्राहि हर ओर है, सुने न कोई पीर।
सत्ता बहरी हो गई, बहरे शाह वज़ीर।।
 
प्राण-वायु को रोक कर, क़ीमत रहे वसूल।
ज़हर बाँटते जो रहे, उनसे आस फ़ुज़ूल।।

                                                                © हिमकर श्याम

                                                              (चित्र गूगल से साभार)

                                                                      
                                                                     

Sunday, 25 April 2021

साँसत में है जान

 


महामारी मचा रहीसर्वत्र हाहाकार।
दूसरी लहर का कहरबेकाबू रफ्तार।।

लाइलाज यह मर्ज़ है, करता क्रूर प्रहार।
महाकाल के सामने, मानव है लाचार।।

घुला हवा में अब ज़हर, दाँव लगे हैं प्राण।
फैल रहा है संक्रमण, माँगे मिले न त्राण।।

ऊँच-नीच का भेद क्या, सारे एक समान।
छोटा हो या हो बड़ासाँसत में है जान।।

बड़ी भयावह त्रासदी, पड़ी काल की मार।
घर-घर ही बीमार है, सुने कौन चीत्कार।।

कब्रगाह में भीड़ है, लम्बी बहुत कतार।
जलती चिता समूह में, बिन अंतिम संस्कार।।

मौत खड़ी थी द्वार पर, मिला नहीं उपचार।
अपनों को काँधा नहीं, छूट गया संसार।।

तड़प- तड़प दम तोड़ते, लोग बड़े मजबूर।
विपदा के  इस दौर में, सजग रहें भरपूर।।

© हिमकर श्याम


(चित्र गूगल से साभार)

 

 

Monday, 29 March 2021

खुली ढोल की पोल


जोगीरा सारा रारारा...!!! 

चरचा में है कांड वसूली, अघाड़ी परेशान।।
परमबीर के लेटर बम से, सियासी घमासान।
जोगीरा सारा रारारा...!!!

रवींदर सा दिक्खे नरेंदर, बदला जब से वेश।
सत्याग्रह भी ट्रेंड हुआ है, भौचक बंगलादेश।।
जोगीरा सारा रारारा...!!!

एक रात में कटा प्लास्टर, खुली ढोल की पोल।
वैरी जन ट्विटर पर कहते, दीदी का सब झोल।।
जोगीरा सारा रारारा...!!!

एलजी के हाथों में पावर,  सत्ता की तकरार।
नाराज़ केजरी माँग रहे, वापस दो अधिकार।।
जोगीरा सारा रारारा...!!!

हुई सदन में धक्का-मुक्की, जम जूतम पैजार।
नेताओं की गुंडागर्दी, शर्मनाक व्यवहार।।
जोगीरा सारा रारारा...!!!

तेल गैस सब उछल रहा है, बढ़े दाम दिन-रात।
राष्ट्रप्रेम में भूल गए सब, महंगाई की बात।।
जोगीरा सारा रारारा...!!!

बैंक बिकेगा, भेल बिकेगा, और बिकेगा रेल।
प्रश्न करेगा कोई जब तो, पहुँचा देंगे जेल।।
जोगीरा सारा रारारा...!!!

खूँटा गाड़े टिकैत बैठा, हल के बिना किसान।
मुँह फेरे शासक है बैठा, अड़ियल है परधान।।
जोगीरा सारा रारारा...!!!

कीचड़ पर ही भिनके माखी , खिले कमल का फूल।
मुकुल- शुभेंदु भगवाधारी, बिखर गया तृण मूल।।
जोगीरा सारा रारारा...!!!

संघ भवन से चलती देखो, कॉरपोरेट सरकार।
जोर लगाता पप्पू लेकिन, खिसक रहा आधार।।
जोगीरा सारा रारारा...!!!

© हिमकर श्याम


(चित्र गूगल से साभार)