Wednesday, 22 May 2019

लिख रहे कैसी कहानी मुल्क में


लिख रहे कैसी कहानी मुल्क में
कर रहे जो हुक्मरानी मुल्क में

क़द्र खोती ये सियासत देखिए
आम होती बदजुबानी मुल्क में

मुफ़लिसी, बेरोजगारी बढ़ रही
रक़्स करती ख़ुश-गुमानी मुल्क में

अब भरोसा उठ गया है न्याय से
हाए इकतर्फ़ा बयानी मुल्क में

ख़ौफ़  का माहौल ऐसा बन गया
अब न होती हक़ बयानी मुल्क में

आँख से पट्टी हटा कर देखिए
क्या फ़ज़ाएँ शादमानी मुल्क में


कम नहीं हैं ज़ीस्त की दुश्वारियाँ  
आफ़तें कितनी उठानी मुल्क में

प्यार कितना है वतन से बोलिए
चाहिए इसकी निशानी मुल्क में

© हिमकर श्याम



(चित्र गूगल से साभार)



Monday, 1 April 2019

अप्रैल फूल


मूर्ख बने तो क्या हुआ, रखिए खुद को कूल।
हँसे-हँसाएँ आप हम, डे हैअप्रैल फूल।।

मूर्ख दिवस तो एक दिन, बनते हम सब रोज। 
मूर्खों की इस भीड़ में, महामूर्ख की खोज।। 

मूर्ख बना कर लोक को, मौज करे ये तंत्र ।। 
धोखा, झूठ, फ़रेब, छल, नेताओं के मंत्र।।


© हिमकर श्याम

(चित्र गूगल से साभार)




Thursday, 21 March 2019

अच्छे दिन की आस में

                   जोगीरा सारा रा रा रा-2
      [होली के कुछ  रंग, हास्य-व्यंग के संग]

16. जुड़ता कुनबा देखते, रघुवर हैं बेचैन
      अरसे से हेमंत की, सत्ता पर है नैन
      जोगीरा सारा रा रा रा
17. काशी क्योटो बन रही, बदला अस्सी घाट
      कॉरिडोर के नाम पर, खड़ी हो रही खाट
      जोगीरा सारा रा रा रा
18. दिन-रात ही फेंकते, करते मन की बात
      नाकामी चहुँओर है, अंधभक्त हैं साथ
      जोगीरा सारा रा रा रा
19. खेती से आमद घटी, जीडीपी बेहाल 
      अच्छे दिन की आस में, बीता पाँचों साल
      जोगीरा सारा रा रा रा
20. एयर स्ट्राइक ने किया, दुश्मन को हलकान
     झटके में ही बिखर गए, राहुल के अरमान 
     जोगीरा सारा रा रा रा
21 . मुँह से गोले दागते, सिद्धू बारम्बार
      सिब्बल,थरूर दिग्विजय, करते बंटाधार
      जोगीरा सारा रा रा रा
22. ढूँढ़ रहा है केजरी, अपना साझेदार
      छूटा साथ विश्वास का, कैसे हो एतबार
      जोगीरा सारा रा रा रा
23. रातों-रात बदल गए, नेताओं के रंग
      कलतक जिसके साथ थे, आज उसी से जंग
      जोगीरा सारा रा रा रा
24. नाहक यह तकरार है, खींची है तलवार
      राजनीति के खेल का, राष्ट्रवाद हथियार
      जोगीरा सारा रा रा रा
25. अब संतों के भेष में, जुर्म बहुत संगीन
      काशी-काबा में मिले, मन के जो रंगीन
       जोगीरा सारा रा रा रा
26. ईवीएम पर तकरार है, उठने लगे सवाल
      छेड़छाड़ की बात पर, होता ख़ूब बवाल
      जोगीरा सारा रा रा रा
27. कांग्रेस सत्ता ले उड़ी, भौचक है परधान
      तीन राज्य में हार से, शाह बहुत हैरान
      जोगीरा सारा रा रा रा
28. होली के हुड़दंग में, निकले मस्त मलंग
      किसको यारों होश है, पीकर ठर्रा भंग
      जोगीरा सारा रा रा रा
29. सरहद पर सैनिक मरे, मरता दीन किसान
      बदल रहा है दोस्तो, अपना हिंदुस्तान
       जोगीरा सारा रा रा रा
30. इनके पाले जो रहे, करे देश से प्यार
      उस खेमे में जो गया,कहलाता गद्दार
       जोगीरा सारा रा रा रा

समाप्त


© हिमकर श्याम


(चित्र गूगल से साभार)