Sunday, 14 May 2017

माँ के क़दमों में है ज़न्नत दोस्तो




वह ख़ुदा की ख़ास नेमत दोस्तो
माँ के क़दमों में है ज़न्नत दोस्तो

लाख परदा तुम गिरा लो झूठ पर
छुप नहीं सकती हक़ीक़त दोस्तो

है तरक्क़ी मुल्क़ में हमने सुना
कम कहाँ होती मशक्क़त दोस्तो

ज़िन्दगी किसकी मुकम्मल है यहाँ
साथ सबके इक मुसीबत दोस्तो

इन परिंदों को भला क्या चाहिए 
आबो दाने की जरूरत दोस्तो

मुश्किलों में साथ देता कौन है
पर सभी देते नसीहत दोस्तो

रात भर करवट बदलते हम रहे
अब सही जाती न फ़ुर्क़त दोस्तो

इश्क़ की पाकीज़गी जाने कहाँ
प्यार में भी है कुदूरत दोस्तो

ग़म हमेशा साथ हिमकर के रहा
ज़िंदगानी में अज़ीयत दोस्तो


मुकम्मल : सम्पूर्ण, फ़ुर्क़त : जुदाई, कुदूरत : मैल, अज़ीयत : कष्ट 



© हिमकर श्याम


 

8 comments:

  1. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  2. वह ख़ुदा की ख़ास नेमत दोस्तो
    माँ के क़दमों में है ज़न्नत दोस्तो
    वाह ..

    ReplyDelete
  3. बहुत लजवाब ... माँ के क़दमों में सच में जन्नत है ...
    हर शेर कमाल है ग़ज़ल का ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत शुक्रिया

      Delete
  4. Nice post keep posting and keep visting on.........www.kahanikikitab.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत व आभार

      Delete

आपके विचारों एवं सुझावों का स्वागत है. टिप्पणियों को यहां पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है.