Sunday, 1 December 2013

झूठ की नुमाइश है, झूठ का दिखावा है



आदमी की बस्ती में भीड़ का छलावा है
झूठ की नुमाइश है, झूठ का दिखावा है

ज़िन्दगी कहाँ यूँ ख़ैरात से सँवरती है
आज भी ज़रूरत में बस वही निवाला है

ख़ु़श्क हो गईं नदियां, सिमटने लगे सागर
क्या कहें उसे गंगा, बन गयी जो नाला है

जिस्म में छुपी रूहें, रूह तक हताशा हैं
हर तरफ उदासी है, बेबसी का हाला है

फिर शहर ने ओढी है चेहरे पे बेचैनी
ज़श्न है यहां कोई या ग़मों की माला है

थम गयी उमंगें बाजार की अचानक ही
देखते ही जरदारी का पिटा दिवाला है


डर हमें नहीं लगता मौसमी बलाओं से
देश को हमारे इन हादसों ने पाला है

हिमकर श्याम

(चित्र गूगल से साभार)

10 comments:

  1. Apki kavitayen dil ko jhakjhor deti hain aur naye sirey se sochney lagta hun jo bahut hi refreshing hain!Dhanyawad!

    ReplyDelete
  2. ज़िन्दगी कहाँ यूँ ख़ैरात से सँवरती है

    आज भी ज़रूरत में बस वही निवाला है

    too good bhaiya, never thought out of this materialistic life.

    ReplyDelete
  3. ज़िन्दगी कहाँ यूँ ख़ैरात से सँवरती है

    आज भी ज़रूरत में बस वही निवाला है

    बेहद उम्दा भइया

    ReplyDelete
  4. ज़िन्दगी कहाँ यूँ ख़ैरात से सँवरती है
    आज भी ज़रूरत में बस वही निवाला है

    बहुत बढ़िया ग़ज़ल

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आपका वन्दना जी…

      Delete
  5. आदमी की बस्ती में भीड़ का छलावा है
    झूठ की नुमाइश है, झूठ का दिखावा है
    ..बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  6. बधाई बढ़िया रचना !!

    ReplyDelete

आपके विचारों एवं सुझावों का स्वागत है. टिप्पणियों को यहां पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है.