Tuesday, 1 July 2014

थकन के सिवा




क्या सराबों में रक्खा थकन के सिवा
ज़िन्दगी क्या है रंजो मेहन के सिवा

अपनी किस्मत से बढ़कर, मिला है किसे
क्या मिला खूँ जलाकर घुटन के सिवा

अजनबी शहर में ठौर मिल जाएगा
पर सुकूं ना मिलेगा वतन के सिवा

हर कदम पे हुनर काम आता यहां
कौन देता भला साथ फ़न के सिवा

आप पर मैं निछावर करूँ, क्या करूँ
पास क्या है मेरे जान-ओ-तन के सिवा

कौन गुलशन में तेरे न बिस्मिल हुआ
किसको गुल रास आया चुभन के सिवा

ढूंढते सब रहे खुशबुओं का पता
बू--गुल है कहाँ इस चमन के सिवा

इस जहाँ में नहीं कोई जा--क़रार
इक फ़क़त आपकी अंजुमन के सिवा

यूँ तो शहरे निगाराँ बहोत हैं मगर
कोई जँचता नहीं है वतन के सिवा

जो मिला है यहां छूटता जाएगा
साथ में क्या रहेगा कफन के सिवा

फ़र्क़ अच्छे बुरे का न वो कर सका
उसने देखा न कुछ पैरहन के सिवा

सराबों : मृगतृष्णा, रंजो मेहन : दुःख और तकलीफ़, बिस्मिल : ज़ख़्मी, शहरे निगाराँ : महबूब शहर, पैरहन: लिबास

(अज़ीज़ दोस्त और शायर जनाब अरमान 'ताज़' जी का तहे दिल से शुक्रिया जिनकी मदद से यह गज़ल मुकम्मल हुई.)

© हिमकर श्याम
(चित्र गूगल से साभार)

25 comments:

  1. ''कौन गुलशन में तेरे न बिस्मिल हुआ
    किसको गुल रास आया चुभन के सिवा

    वाह!वाह!!

    पूरी की पूरी ग़ज़ल बहुत ही अच्छी कही है .
    हर शेर वज़नदार है.

    उर्दू के चुनिन्दा शब्दों के अर्थ देकर अच्छा किया .

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया अल्पना जी, ग़ज़ल को पसंद करने के लिए.

      Delete
  2. @Himkar ji blogsetu.com naya agregrator hai ..wahan apna blog register kar lijeeye...

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग सेतु की जानकारी देने के लिए आभार. यूँही अपने विचारों और सुझावों से अवगत कराती रहें, धन्यवाद...

      Delete
  3. जो मिला है यहां छूटता जाएगा
    साथ में क्या रहेगा कफन के सिवा

    फ़र्क़ अच्छे बुरे का न वो कर सका
    उसने देखा न कुछ पैरहन के सिवा

    वाह ...निशब्द करती पंक्तियाँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. अशआर पसंद करने के लिए तहे दिल से शुक्रिया....

      Delete
  4. बेहद उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@दर्द दिलों के
    नयी पोस्ट@बड़ी दूर से आये हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया...

      Delete
  5. अजनबी शहर में ठौर मिल जाएगा
    पर सुकूं ना मिलेगा वतन के सिवा ..
    इस हकीकत को मैं समझता हूँ ... क्योंकि विदेश में हूँ ...
    बहुत ही उम्दा शेरों से सजी ग़ज़ल ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. ग़ज़ल आप तक पहुंची मुझे बेहद ख़ुशी हुई.. बहुत बहुत शुक्रिया आपका…

      Delete
  6. जो मिला है यहां छूटता जाएगा
    साथ में क्या रहेगा कफन के सिवा
    ...वाह..लाज़वाब अशआर...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शेर पसंद करने के लिए तहे दिल से शुक्रिया....

      Delete
  7. अपनी किस्मत से बढ़कर, मिला है किसे
    क्या मिला खूँ जलाकर घुटन के सिवा

    बढ़िया नज़्म
    दिल में बसाए रखने की कोशिश में रची गयी
    भावपूर्ण रचना ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया...

      Delete
  8. Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया...

      Delete
  9. यूँ तो शहरे निगाराँ बहोत हैं मगर
    कोई जँचता नहीं है वतन के सिवा

    जो मिला है यहां छूटता जाएगा
    साथ में क्या रहेगा कफन के सिवा...laajawab !

    ReplyDelete
  10. यूँ तो शहरे निगाराँ बहोत हैं मगर
    कोई जँचता नहीं है वतन के सिवा
    जो मिला है यहां छूटता जाएगा
    साथ में क्या रहेगा कफन के सिवा

    वाह बहुत खूब ... बहुत बढ़िया ग़ज़ल

    ReplyDelete
    Replies
    1. अशआर पसंद करने के लिए तहे दिल से शुक्रिया....

      Delete
  11. ब्लॉग बुलेटिन आज की बुलेटिन, इंसान की दुकान मे जुबान का ताला - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शिवम् मिश्रा जी, ब्लॉग से जुड़ने और ब्लॉग बुलेटिन में मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार.

      Delete
  12. Himkar ji, Ghajal wakai me bahut hi sundar and aihsas bhara hai...kabhi kabhi jindagi bhre panne bhi itne khubsurat hote hai ki dard me dub jana hi dawa ban jati hai...

    Prashant Kumar
    Ahmedabad

    ReplyDelete

आपके विचारों एवं सुझावों का स्वागत है. टिप्पणियों को यहां पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है.