Sunday, 9 February 2014

चाँदनी

(चित्र गूगल से साभार)

चाँदनी  
सूने आंगन में
लिख देती है
तुम्हारा नाम

अक्सर
तमाम रात
हंसती है
बावरी चाँदनी
बात-बेबात
देती है
यह संदेशा
बार-बार
कि तुम हो
मेरे आसपास

तुम्हारे-
वजूद की खुशबू
तैरने लगती है
अंधेरे कमरे में
हंस उठते हैं
सारे पल उदास
कितना खुशनुमा
होता है
तुम्हारे होने का
फकत अहसास

छा जाता है
अंर्तमन में
उमंग-उल्लास
भूल जाता हूं
सारे विरह ताप
बैचेनियों को
मिल जाता है
अल्प विराम
तुम्हारे नाम के
चंद हर्फ़ों में
छिपा हो जैसे
जीने का पैगाम

जानता हूं -
कि रह जाना है
फिर खाली हाथ
अब चाहे यह
भ्रम हो या विश्वास
या ठगती हो
बावरी चाँदनी  
हर रोज, हर बार
जो कुछ भी हो
सहर्ष सब स्वीकार।

© हिमकर श्याम








32 comments:

  1. क्या कहने...
    आपकी कविता में तो एक जादुई अहसास है..
    जो मन को खूब भाते है...
    बहुत ही सुन्दर कोमल भावनाओं से लिप्त सुन्दर अहसास जगाती सुन्दर रचना......

    ReplyDelete
  2. prem ka ehsas hi jholi bhar deta hai fir chahe kuchh mile ya n mile .....:))

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहमत...इसी तरह अपनी प्रतिक्रिया देते रहिएगा …शुक्रिया...

      Delete
  3. तुम्हारे नाम के
    चंद हर्फ़ों में
    छिपा हो जैसे
    जीने का पैगाम
    ....बहुत सुन्दर प्रेममयी प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  4. प्रेम के खूबसूरत भावों में रची-बसी खूबसूरत रचना.......

    ReplyDelete
    Replies
    1. अदिति जी, हार्दिक आभार !

      Delete
  5. बावरी चाँदनी
    हर रोज, हर बार
    जो कुछ भी हो
    सहर्ष सब स्वीकार।
    कितनी सुंदर पोस्ट ..... मन को ऊर्जा देती सी ...वाह-वाही करने से अच्छा इन भावों को अपने जीवन में उतारना!! ........आभार

    ReplyDelete
  6. चाँदनी रात में
    सागर पर जैसे,
    लहरे मचलती है .
    एहसास शब्द बनकर,
    इस काव्य में,
    ऐसे ही पिघलती है ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. तुम्हारी प्रतिक्रिया पाकर खुशी हुई...

      Delete
  7. चांदनी प्रतीक है प्रेम का ... इसलिए प्रेम ही बरसायेगी ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आपने...शुक्रिया...

      Delete
  8. तुम्हारे नाम के
    चंद हर्फ़ों में
    छिपा हो जैसे
    जीने का पैगाम...........bahut hi roohani abhivykti!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी प्रतिक्रिया पाकर खुशी हुई...स्वागत है आपका ...

      Delete
  9. बहुत ही खूबसूरत प्रेम के भावों में भीगे हुए शब्द ...किसी के पास होने भर का अहसास भी कभी -कभी जीने के संबल बन जाता है .

    ReplyDelete
    Replies
    1. अल्पना जी, रचना की प्रशंसा के लिए आभार...

      Delete
  10. बहुत खूबसूरत प्रेम भाव से रची रचना....!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रंजना जी...

      Delete
  11. वाह...कितना कुछ कहती रही आपकी भावपूर्ण रचना.. बहुत सुंदर..!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी प्रतिक्रिया पाकर खुशी हुई...स्वागत है आपका ...

      Delete
  12. मंगलवार 04/03/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी एक नज़र देखें
    धन्यवाद .... आभार ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया विभा जी, उत्साहवर्धन हेतु आपका आभारी हूँ...

      Delete
  13. सुन्दर एवं सफल रचना। मानव-मन को
    प्रभावित करने वाली रचना।
    धन्यवाद।

    आनन्द विश्वास।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद ...सादर !

      Delete
  14. जीवन में प्रेम और प्रेम में जीवन का अहसास कराती कविता......

    ReplyDelete

आपके विचारों एवं सुझावों का स्वागत है. टिप्पणियों को यहां पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है.