Thursday, 28 August 2014

हमसफ़र सपने

(चित्र गूगल से साभार)
अविरल घूमा करते हैं
हमारे आस-पास
तैरते हैं हर वक़्त
हमारी आँखों में
ख़्वाहिशों और कोशिशों के
एकमात्र साक्षी-सपने

बनते-बिखरते
सुलगते- मचलते
गिरते- संभलते
फूल सा महकते
काँच सा चटकते
हसरतों से तकते
ये बेज़ुबां सपने

अलग-अलग रंगों में
रूपों-आकारों में
आहों-उलाहनों में
गीतों में छंदों में
उदासियों-तसल्लियों में
देहरी पर, आँगन में
रहते हैं साथ-साथ
हैं हमसफर सपने

इन्हीं सपनों को
संजोया था हमने
कभी मन में
इन्हीं सपनों में
तलाशते रहे हम
जीवन के रंग
सपने, कभी हो न सके पूरे
रह गए हर बार अधूरे  
फिर भी बुनते रहें हम
सपनों की सतरंगी झालर
उम्मीदें चूमती रहीं
सपनों का माथा
वक़्त कतरता रहा
सपनों के पर
टूटते-दरकते रहे
सपने दर सपने
बिखरती रहीं ख़ुशियाँ तमाम
टूटते रहे धैर्य और विश्वास

ओह! ये रेज़ा-रेज़ा सपने।

© हिमकर श्याम



26 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना.
    सपने तो सपने होते हैं
    कब होते हैं अपने

    ReplyDelete
  2. सपने तो सपने होते हैं, कभी सजते हैं कभी टूटते हैं...फिर भी लगते अपने हैं...बहुत भावमयी अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  3. इस पोस्ट की चर्चा, रविवार, दिनांक :- 31/08/2014 को "कौवे की मौत पर"चर्चा मंच:1722 पर.

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना के चयन के लिये धन्यवाद ।

      Delete
  4. कभी बिखरते कभी टूटते
    कभी सवंरते कभी छूटते
    सपनो की दुनिया न्यारी है
    छलते अक्सर रोज लूटते

    अज़ीज़ जौनपुरी

    ReplyDelete
  5. सुंदर कथ्य सपनों का.
    जरूरी नहीं सभी सपने पूर्ण हों---जो पूरे हुए वही आशीर्वाद है ईश्वर का.
    वही दीप है अंधेरों का.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहमत हूँ आपसे...हार्दिक आभार...

      Delete
  6. बहुत सुन्दर...........

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत है आपका...प्रतिक्रिया के लिए आभार!!

      Delete
  7. भावपूर्ण प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  8. बेजोड़ भाव...
    कितना कुछ संजोये सपने ...... पूरे से....अधूरे से ....

    ReplyDelete
  9. सपने तो रहते हैं हमेशा साथ किसी न किसी रूप में ... टूटते हैं तो भी नए आ जाते हैं .... जीवन की आशा जगाते हैं ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा आपने...हार्दिक आभार...

      Delete
  10. मन के भीतर पनपते मनोभावों को
    उकेरती बेहतरीन
    रचना
    सादर

    ReplyDelete
  11. सुदंर कविता खासकर सपनों के सपने की बड़ी मनभावन व्याख्या की। और कैंसर से जंग करते हुए इन कविताओं की कीमत और बढ जाती है कि दर्द जीवन मौत के बीच अधर में होने के बाद भी कविताओं में ताजगी आकर्षण कलात्मकसौंदर्य और मीठे ख्यालात बार बार नजर आ रहे हैं। l

    ReplyDelete

आपके विचारों एवं सुझावों का स्वागत है. टिप्पणियों को यहां पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है.