Saturday, 15 August 2015

जय,जय, जय माँ भारती

चंद दोहे देश के उन वीर सपूतों/बालाओं के नाम जिन्होंने देश को गुलामी की बेड़ियों से मुक्त कराने में अहम भूमिका निभाई थी। उन राष्ट्रभक्तों/राष्ट्रनायकों के नाम जिन पर माँ भारती को नाज़ है, जिनकी वजह से हम सभी भारतीय कहलाने में गर्व महसूस करते हैं। 


बाबू कुँवर सिंह
सन सत्तावन का ग़दर, चमक उठी तलवार।
वीर कुँवर रण बाँकुरे, मानी कभी न हार।।
रानी लक्ष्मी बाई
धरती थी बुन्देल की, झाँसी का मैदान।
ख़ूब लड़ी थी शेरनी, दुश्मन थे हैरान।।
भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु
हुए कुर्बान वतन पर, हँस कर दे दी जान।
भगत, राज, सुखदेव का, व्यर्थ न हो बलिदान।।
मिटे वतन पर नौजवाँ,  बने हिन्द की शान।
मिटा दमन का हर निशाँ,  गूँजा गौरव गान।।
खुदीराम बोस
अलख जगाया क्रान्ति कान्योछावर कर प्राण।
हँस कर सूली पर चढ़ासिखलाया बलिदान।।
चंद्रशेखर आज़ाद
देशभक्त को आज भी, करता भारत याद।
कोई वैसा ना हुआ, क्रान्तिवीर आज़ाद।।
लाल, बाल और पाल
लाल-बाल औ' पाल सेफिरंगी परेशान।
वीर पंजाब केसरीहिन्द देश की शान।।
नारा दिया स्वराज का, किया क्रांति ऐलान।
तिलक प्रणेता हिन्द के, राष्ट्रवाद पहचान।।
नेताजी सुभाष चंद्र बोस
उठो, जवानों देश पर, हो जाओ कुर्बान।
आज़ादी के वास्ते, करो रक्त का दान।।
आज़ाद हिन्द फौज से, चढ़ी क्रांति परवान।
गर्व करे माँ भारती, करे राष्ट्र अभिमान।।
गुमनाम शहीदों के नाम 
मातृभूमि के वास्ते, अर्पित कर दी जान।
ऐसे वीर शहीद पर, करे राष्ट्र अभिमान।।
खत्म हुई अब दासता, हुआ मुल्क आज़ाद।
टूट गईं सब बेड़ियाँ, रहो शाद आबाद।।
राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी
गाँधी ने जग को दिया, सर्वोदय का ज्ञान।
सत्य, अहिंसा, सादगी, बापू की पहचान।।
देशरत्न डॉ राजेन्द्र प्रसाद
प्रथम नागरिक देश के, दिल से मगर किसान
सहजता और सादगी, थी जिनकी पहचान
लाल बहादुर शास्त्री
तप कर कुंदन वह बने, थे गुदड़ी के लाल।
कद में छोटे थे मगर, कायम किया मिसाल।।
ए.पी. जे. अब्दुल कलाम
सहज-सरल गुणी महान, भला नेक इंसान।
राष्ट्र सबल सक्षम बने, मन में था अरमान।।
याद बहुत वह आएगा, प्रेरक शख्स कलाम।
सच्चे भारत रत्न को, झुक कर करो सलाम।।
माँ भारती के लिए
सब धर्मों को मान दे, भारत देश महान। 
जय,जय, जय माँ भारती, जाँ तुझ पर क़ुर्बान

और अंत में एक अपील

स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ 

© हिमकर श्याम 


19 comments:

  1. आज की बुलेटिन, वन्दे मातरम - हज़ार पचासवीं ब्लॉग-बुलेटिन में आप की पोस्ट भी शामिल की गई हैं । सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर.स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं.
    नई पोस्ट : झूठे सपने

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (16-08-2015) को "मेरा प्यार है मेरा वतन" (चर्चा अंक-2069) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    स्वतन्त्रतादिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  5. आज़ादी के मायने बदलने ज़रूर चाहिए
    हमारे अपनों के नज़रिये बदलने चाहिए

    कुछ कर दिखाने का ज़ज़्बा होना चाहिये
    हालात बदलने का मादा होना तो चाहिए

    अँधेरी रातों को उज़ाले नये फिर चाहिए
    सोच कि "अरु" तस्वीर उभरनी चाहिए
    Rai Aradhana ©

    ReplyDelete
  6. क्या बात है !.....बेहद खूबसूरत सामयिक रचना....
    समस्त ब्लॉगर मित्रों को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@यहाँ पधारिये

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर शब्दों से सभी को आपने कविता में पिरो दिया है ।

    ReplyDelete
  8. नमन इन महान व्यक्तित्व के धनी लोगो का. श्रधान्जली हम सब कि ओर से.

    स्वतंत्रता दिवस कि अनेकानेक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  9. बहुत ही समायिक ,पठनीय और स्मरणीय कविता . अपने वीर क्रान्तिकारियों और महापुरुषों को स्मरण करने का एक अच्छा तरीका . वाह .

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत व आभार आदरणीया

      Delete
  10. सब धर्मों को मान दे, भारत देश महान।
    जय,जय, जय माँ भारती, जाँ तुझ पर क़ुर्बान।।
    सुन्दर शब्द रचना...
    स्वतंत्रता दिवस कि शुभकामनायें.
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
  11. Bahut pyare shraddha Suman Shaheedon ko samarpit.

    ReplyDelete
  12. हुए कुर्बान वतन पर, हँस कर दे दी जान।
    भगत, राज, सुखदेव का, व्यर्थ न हो बलिदान।।..
    आमीन ... इन सब अमर सपूतों के बलिदान को आज लगता है देश भूल चूका है ... आज की जरूरत उन्हें दुबारा पहचानने की है ... सार्थक और लाजवाब दोहे ...

    ReplyDelete
  13. हुए कुर्बान वतन पर, हँस कर दे दी जान।
    भगत, राज, सुखदेव का, व्यर्थ न हो बलिदान।।..
    ..........लाजवाब दोहे :))

    ReplyDelete
  14. सराहना तथा प्रोत्साहन के लिए आप सभी का हृदय से धन्यवाद एवं आभार !
    ~सादर

    ReplyDelete

आपके विचारों एवं सुझावों का स्वागत है. टिप्पणियों को यहां पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है.