Friday, 21 August 2015

ब्रह्म कमल


[ब्रहम कमल एक दुर्लभ पुष्प है, जो साल में एक बार (रात्रि में), सिर्फ एक रात के लिए खिलता है. इसका नाम सृष्टिकर्ता ब्रह्मा जी के नाम पर रखा गया है. इसे शुभ फूल माना जाता है. इसकी गंध बड़ी मादक होती है. ब्रह्म कमल को उत्तराखंड का राज्य पुष्प घोषित किया गया है. पिछले हफ्ते यह मेरे लॉन में खिला था.]


ब्रह्म कमल
सौंदर्य अनुपम
मनभावन

दुर्लभ पुष्प 
सुवासित कानन  
खिला आँगन

शशि किरण
खिला दुधिया फूल
फैली गंध

© हिमकर श्याम

30 comments:

  1. धन्यवाद ब्रह्म कमल देखने को थो मिला।nahi थो ये भी कपोल काल्पनिक सा ही लगता

    ReplyDelete
  2. durlav pushp hai...aapne dikhaya..thnx.

    ReplyDelete
  3. ब्रह्म कमल से आपका, हुआ सुशोभित लॉन,
    खुश नसीब ये आपका, रहे प्रकृति का मान |

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत ख़ूब, स्वागत व आभार!

      Delete
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर हाइकु...दुर्लभ ब्रह्म कमल के दर्शन करने के लिए आभार...

    ReplyDelete
  6. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (23-08-2015) को "समस्याओं के चक्रव्यूह में देश" (चर्चा अंक-2076) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभारी हूँ आदरणीय शास्त्री जी

      Delete
  7. गजब
    काश हक़ीकत में देख पाते

    ReplyDelete
  8. सुन्दर शब्द रचना......... आभार
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
  9. सुन्दर व सार्थक रचना ..
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है...

    ReplyDelete
  10. सुन्दर चित्र और सुन्दर रचना ... इस फूल के महत्त्व और इसको सुन्दरता ... दोनों को बाँधा है इस पोस्ट में ... शुभ हो इसका खिलना ...

    ReplyDelete
  11. फैली सुगंध
    ब्रम्ह कमल खिला
    सहस्त्र दल !

    ReplyDelete
  12. Wow, this article is pleasant, my younger sister is analyzing such
    things, therefore I am going to convey her.

    My web page ::

    ReplyDelete
  13. दुर्लभ पुष्प की कहानी भी दुर्लभ है । आपकी पोस्ट से इसे देखा भी और जाना भी । बहुत सुंदर ।

    ReplyDelete
  14. Replies
    1. हार्दिक स्वागत। ब्लॉग से जुड़ने के लिए तहेदिल से धन्यवाद.

      Delete
  15. सराहना तथा प्रोत्साहन के लिए आप सभी का हृदय से धन्यवाद एवं आभार !
    ~सादर

    ReplyDelete
  16. सुन्दर...अति सुन्दर...

    ReplyDelete
  17. सुन्दर चित्र और सुन्दर रचना .

    राज चौहान
    आपका मेरे ब्लॉग पर इंतजार है.
    अज्ञेय जी की रचना... मैं सन्नाटा बुनता हूँ :)
    http://rajkumarchuhan.blogspot.in

    ReplyDelete
  18. सराहना तथा प्रोत्साहन के लिए आप सभी का हृदय से धन्यवाद एवं आभार !
    ~सादर

    ReplyDelete

आपके विचारों एवं सुझावों का स्वागत है. टिप्पणियों को यहां पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है.