Sunday, 12 January 2014

तुम - ?


जब भी अपनी कविताओं में
बांधना चाहता हूं
शब्द।
एक चेहरा बार-बार
अपने भीतर
उतरता हुआ महसूस
होता है,
ठीक वैसा ही आकार लेता हुआ
जैसे कि तुम- ?
चुपके से आकर मेरे कानों में
कहती हो-
किसे बांधना चाहते हो
अपनी कविताओं में-
खुद को,  मुझे या दर्द को ?



8 comments:

  1. किसे बांधना चाहते हो
    अपनी कविताओं में-
    खुद को, मुझे या दर्द को ?

    .......क्या बात है ?

    ReplyDelete
  2. फुर्सत मिले तो कभी हमारी देहलीज़ पर भी आये संजय भास्कर
    http://sanjaybhaskar.blogspot.in

    ReplyDelete
    Replies
    1. अवश्य...यह मेरे लिए खुशी की बात होगी...

      Delete
  3. हार्दिक आभार संजय भास्कर जी.

    ReplyDelete
  4. दिल को छू लेनेवाली रचना..
    बेहद सुन्दर...
    http://mauryareena.blogspot.in/

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रतिक्रिया लिए ह्रदय से आभार...

      Delete
  5. बंधन की परवाह किसे है?
    उडान की चाह हमें है
    उड़ने की चाहत में,
    बंधन खोल
    आजाद कर दूँ
    विचारों को, शब्दों को, दर्द को

    ReplyDelete

आपके विचारों एवं सुझावों का स्वागत है. टिप्पणियों को यहां पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है.