Tuesday, 21 October 2014

माटी का दीपक बने, दीप पर्व की शान


चाक घुमा कर हाथ से, गढ़े रूप आकार।
समय चक्र ऐसा घुमा, हुआ बहुत लाचार।।
चीनी झालर से हुआ, चौपट कारोबार।
मिट्टी के दीये लिए, बैठा रहा कुम्हार।।
माटी को मत भूल तू, माटी के इंसान।
माटी का दीपक बने, दीप पर्व की शान।।

सज धज कर तैयार है, धनतेरस बाजार
महँगाई को भूल कर, उमड़े खरीददार।
सुख, समृद्धि, सेहत मिले, बढ़े खूब व्यापार।
घर, आँगन रौशन रहे, दूर रहे अँधियार।।
कोई मालामाल है, कोई है कंगाल।
दरिद्रता का नाश हो, मिटे भेद विकराल।।

चकाचौंध में खो गयी, घनी अमावस रात।
दीप तले छुप कर करे, अँधियारा आघात।।
दीपों का त्यौहार यह, लाए शुभ सन्देश।
कटे तिमिर का जाल अब, जगमग हो परिवेश।। 
ज्योति पर्व के दिन मिले, कुछ ऐसा वरदान।
ख़ुशियाँ बरसे हर तरफ़, सबका हो कल्याण।।

© हिमकर श्याम 


(चित्र गूगल से साभार)
















22 comments:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति मंगलवार के - चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  2. उत्साहवर्धन हेतु आपका आभारी हूँ...रचना के चयन के लिए धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब ... दीपावली पर बहुत ही संजीदा भाव लिए हैं आपके छंद ...
    दीपों के पर्व की बधाई ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार...मंगलकामनाएँ...

      Delete
  4. बहुत सुंदर एवं हकीकत को बयां करती रचना.
    दीपोत्सव की शुभकामनाएं !
    नई पोस्ट : दीपावली,गणपति और तंत्रोपासना

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार...मंगलकामनाएँ...

      Delete
  5. बहुत सुन्दर ..
    दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार...मंगलकामनाएँ...

      Delete
  6. सुन्दर भाव , सार्थक आव्हान
    ]रौशनी फैले हर ओर .... हार्दिक शुभकामनायें...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार...मंगलकामनाएँ...

      Delete
  7. दीपावली की शुभकामनायें !

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार...मंगलकामनाएँ...

      Delete
  8. सुन्दर दोहे देखकर,मन हो गया प्रसन्न।
    मालिक रक्खे आपको,स्वस्थ,सुखी,संपन्न।।

    दीपावली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक अभिनन्दन. प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद...मंगलकामनाएँ...

      Delete
  9. अनुपम प्रस्तुति......समस्त ब्लॉगर मित्रों को दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ......
    नयी पोस्ट@बड़ी मुश्किल है बोलो क्या बताएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार...मंगलकामनाएँ...

      Delete
  10. अनुपम प्रस्तुति......आपको और समस्त ब्लॉगर मित्रों को दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ......
    नयी पोस्ट@बड़ी मुश्किल है बोलो क्या बताएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार...मंगलकामनाएँ...

      Delete
  11. दीपावली की अनेक शुभ कामनाएँ। सुंदर प्रस्तुति का आभार।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक अभिनन्दन. प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद...मंगलकामनाएँ...

      Delete
  12. बहुत सुन्दर और सार्थक दोहे...दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार...मंगलकामनाएँ...

      Delete

आपके विचारों एवं सुझावों का स्वागत है. टिप्पणियों को यहां पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है.