Thursday, 10 September 2015

धूप मुठ्ठी में जो आई



हम जो गिर-गिर के सँभल जाते तो अच्छा होता
वहशत ए दिल से निकल पाते तो अच्छा होता

बदनसीबी ने कई रंग दिखाए अब तक
बिगड़ी तक़दीर बदल पाते तो अच्छा होता

ख़्वाब आंखों में पले और बढ़े घुट-घुट कर
दो घड़ी ये भी बहल जाते तो अच्छा होता

किस कदर हमने बनाया था तमाशा अपना
कू ए जानां से निकल जाते तो अच्छा होता

धूप मुठ्ठी में जो आई तो सजे थे अरमां
हम उजालों से न छल पाते तो अच्छा होता

लब हंसे जब भी हुआ रश्क मेरे अपनों को
ऐसी सुहबत से निकल जाते तो अच्छा होता

वक़्त के साथ न हिमकर ने बदलना सीखा
वक़्त के सांचे में ढल पाते तो अच्छा होता

© हिमकर श्याम 

(तस्वीर छोटे भाई रोहित कृष्ण की)


19 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 11 सितम्बर 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (11.09.2015) को "सिर्फ कथनी ही नही, करनी भी "(चर्चा अंक-2095) पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ, सादर...!

    ReplyDelete
  3. publish ebook with onlinegatha, get 85% Huge royalty, send abstract free,send Abstract today:http://www.onlinegatha.com/

    ReplyDelete
  4. वक़्त के साथ न हिमकर ने बदलना सीखा
    वक़्त के सांचे में ढल पाते तो अच्छा होता ... बहुत उम्दा

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन कविता,परिवर्तन संसार का नियम है

    ReplyDelete
  6. उत्कृष्ट प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. बहुत बेहेतरीन रचना ।

    ReplyDelete
  8. धूप मुठ्ठी में जो आई तो सजे थे अरमां
    हम उजालों से न छल पाते तो अच्छा होता

    लाजवाब! बहुत उम्दा ग़ज़ल .

    [देर से आने के लिए माफ़ी..पिछली जो पोस्ट रह गयीं हैं उन्हें भी सब धीरे -धीरे पढूंगी..]

    ReplyDelete
    Replies
    1. देर से ही सही प्रतिक्रिया मिली, शर्मिंदा न करें...तहे दिल से शुक्रिया

      Delete
  9. धूप मुठ्ठी में जो आई तो सजे थे अरमां
    हम उजालों से न छल पाते तो अच्छा होता
    बहुत लाजवाब शेर है ग़ज़ल का ... उजाले अक्सर जिंदगी को छल जाते हैं ... इसलिए अंधेरों से दोस्ती हीनी जरूरी है ....

    वक़्त के साथ न हिमकर ने बदलना सीखा
    वक़्त के सांचे में ढल पाते तो अच्छा होता ...
    काश ... समय के साथ बदलना आ जाता ... जिंदगी आसान हो जाती ...

    ReplyDelete
  10. वक़्त के साथ न हिमकर ने बदलना सीखा
    वक़्त के सांचे में ढल पाते तो अच्छा होता ... बहुत उम्दा हिमकर जी

    ReplyDelete
  11. हौसला अफजाई के लिए आप सभी का तहे दिल से शुक्रिया

    ReplyDelete

आपके विचारों एवं सुझावों का स्वागत है. टिप्पणियों को यहां पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है.